250 total views

तहसीलदार ने की थी महिला सिपाही की हत्या, पत्नी समेत तीन गिरफ्तार; कैसे खुला राज

Lucknow Crime Update: पुलिस मुख्यालय में तैनात महिला आरक्षी रुचि चौधरी की हत्या की गई थी। रुचि की हत्या उसके परिचित तहसीलदार ने की थी। आरोपित तहसीलदार पद्मेश श्रीवास्तव प्रतापगढ़ के रानीगंज में तैनात है। पीजीआइ पुलिस ने आरोपित को उसकी पत्नी प्रगति और साथी नामवर सिंह के साथ गिरफ्तार किया है। पद्मेश की पत्नी को घटना के बारे में सारी जानकारी थी। पूछताछ में सामने आया है कि 12 फरवरी की रात में पद्मेश और नामवर सिंह ने रुचि को नशीला पदार्थ खिलाने के बाद उसकी गला घोंटकर हत्या कर दी थी। इसके बाद शव को नाले में फेंककर प्रतापगढ़ वापस लौट गए थे।

रुचि और पद्मेश फेसबुक के जरिए संपर्क में आए थे। धीरे-धीरे दोनों में चैट के साथ-साथ फोन पर बातचीत होने लगी थी। कुछ दिन बाद ही दोनों की मुलाकात भी हो गई और वे करीब आ गए। रुचि का उसके पति अंकित गुप्ता से विवाद चल रहा था। अंकित भी सिपाही है और बरेली का रहने वाला है, जिसकी तैनाती प्रयागराज में है। अंकित रुचि से तलाक लेने वाला था। इधर, रुचि नजदीकियां बढ़ने के बाद पद्मेश पर शादी का दबाव बनाने लगी। दबाव बढ़ने पर पद्मेश ने रुचि को बताया कि वह शादीशुदा है। इसके बाद से दोनों में विवाद शुरू हो गया था। रुचि हर हाल में पद्मेश से शादी करना चाहती थी। अक्सर दोनों का फोन पर झगड़ा होता था।

मिलने के लिए बुलाया और कर दी हत्या

साजिश के तहत पद्मेश ने रुचि को फोन कर मिलने के लिए बुलाया था। रुचि अर्जुनगंज में किराए के कमरे में रहती थी। पद्मेश के बुलाने पर रुचि कैब पर पीजीआइ अस्पताल के सामने पहुंची थी। पद्मेश और नामवर गाड़ी लेकर उसका इंतजार कर रहे थे। रुचि के गाड़ी में बैठने पर आरोपितों ने उसे खाने के सामान में नशीला पदार्थ मिलाकर दे दिया था। कुछ देर में ही रुचि बेहोश हो गई थी। इसके बाद आरोपितों ने सांस की नली दबाकर उसकी जान ले ली थी। हत्या के बाद 12 फरवरी की रात में ही कल्ली स्थित माती में शव को नाले में फेंककर भाग निकले थे।

काल डिटेल ने खोला राज

पुलिस ने शव की शिनाख्त होने के बाद रुचि के फोन की काल डिटेल निकलवाई थी। पड़ताल में सामने आया कि रुचि की आखिरी बार फोन पर पद्मेश से बात हुई थी। इसके बाद पुलिस टीम प्रतापगढ़ पहुंची और आरोपित को उसकी पत्नी व साथी के साथ गिरफ्तार कर लिया। रुचि ने वर्ष 2019 में अंकित से प्रेम विवाह किया था। रुचि के बड़े भाई अंकित ने बताया कि उनकी बहन ने अपनी भाभी से फोन पर बात की थी। कुछ देर बाद फोन बंद हो गया था। अगले दिन घरवालों ने रुचि के साथ काम करने वाली महिला सिपाही को फोन कर उसके बारे में पूछा था। जानकारी न होने पर महिला सिपाही ने इंटरनेट मीडिया पर रुचि के लापता होने की पोस्ट डाली थी, जिसके बाद पुलिस अधिकारी हरकत में आए थे। उल्लेखनीय है कि गुरुवार शाम को नाले में अज्ञात महिला का शव मिला था, जिसकी शनिवार को रुचि के रूप में पहचान की गई थी।

 251 total views

0Shares

खुर्शीद खान राजू

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

लालू यादव को डोरंडा कोषागार मामले में CBI की विशेष अदालत ने सुनाई 5 साल की सजा, 60 लाख का जुर्माना भी

Mon Feb 21 , 2022
बिहार के पूर्व मुख्य मंत्री को सीबीआई की विशेष अदालत ने डोरंडा कोषागार मामले में 5 साल की कैद की सजा सुनाई है। हाल ही में सीबीआई की विशेष अदालत ने राची में लालू यादव को पांचवा चारे घोटाले के डोरंड कोषागार के मामले में दोषी ठहराया था। बता दें […]

You May Like

Breaking News

IPL LIVE UPDATE 2021

शहर में भेड़िये का हमला ! आधा दर्जन लोग घायल !

सुल्तानपुर में सरकारी गोदाम भी बेच डाला !